Amazing Facts Featured Intresting News

भरी विधानसभा में तेजस्वी की इस हरकत को देख नीतीश की आँखे खुली रह गयीं

महागठबंधन के समर्थन से बिहार में मुख्यमंत्री बने नीतीश कुमार लालू का साथ छोड़कर एक बार फिर बीजेपी के साथ सत्ता में लौटे हैं

भरी विधानसभा में तेजस्वी की इस हरकत को देख नीतीश की आँखे खुली रह गयीं July 30, 2017

बीजेपी के साथ नीतीश का पुराना याराना है. शुरुवात में लालू और नीतीश अच्छे मित्र थे. लेकिन इनकी राजनीतिक मित्रता साल 2005 में  में तब ख़त्म हो गयी जब नीतीश लालू का साथ छोड़कर बीजेपी के साथ हो लिए. इसके बाद साल 2013 में नीतीश ने एक बार फिर बीजेपी से नाता तोड़कर लालू के साथ चले गये. अब एक और बार नीतीश कुमार लालू को छोड़कर बीजेपी की गोद में आकर सत्ता पर बैठ गये हैं. नीतीश की राजनीतिक जीवन में सहयोगी पार्टी को पकड़ना और छोड़ना ही सबसे दिलचस्प मुद्दा है. वो कब किसके साथ होंगे, इसे समझ पाना थोडा मुश्किल है.

Source

फिलहाल हम बात कर रहे है लालू के छोटे बेटे तेजस्वी यादव की,जिन्होंने शुक्रवार को विधानसभा में बुलाये गये विशेष सत्र में जोरदार भाषण दिया. यह विशेष सत्र बीजेपी के समर्थन ने बनी नीतीश सरकार को विश्वास मत पेश करने और जरुरी विधायको का समर्थन पेश करने के लिए बुलाया गया था. विश्वास मत पेश करने के लिए बुलाये गये इस सत्र में नेता प्रतिपक्ष ने विधानसभा में भाषण दिया. कहा जा रहा है कि लालू के लाल तेजस्वी ने विधानसभा में जोरदार भाषण दिया. बिहार की सत्ता से बाहर होने के बाद तेजस्वी यादव हार कर भी जीत गये.

Source

दरअसल विधानसभा में विश्वास मत पारित करने के दौरान नेता विपक्ष तेजस्वी यादव ने जो भाषण दिया है इसके चर्चे हो रहे है. दरअसल तेजस्वी अपने पूरे भाषण के दौरान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उनके सरकार में सहयोगी पार्टी बीजेपी पर जमकर हमला बोला. इस भाषण के दौरान तेजस्वी काफी तीखे शब्दों का उपयोग कर रहे थे इस बात से तो यह अंदाजा लगाया ही जा सकता है कि तेजस्वी के हाथ से सरकार चली जाने से उन्हें गहरा धक्का लगा है जिससे तेजस्वी का दर्द कल साफ़ झलक आया और इसी दर्द में उन्होंने एक भाषण दिया जिसकी किसी को उम्मीद नही थी.

Source

तेजस्वी बीजेपी और नीतीश पर हमला बोलते हुए बोले कि नीतीश हे राम से होते हुए श्री राम के रास्ते पर चलने लगे है. अपने भाषण के दौरान तेजस्वी ने नीतीश को बॉस कहकर संबोधित करते हुए कहा कि आपके पास 91 एमएलए थे बॉस. उन्होंने नीतीश से यह भी पूछ लिया कि क्या आपको बीजेपी के समर्थन से सरकार बनाने में शर्म नही आई. हालाँकि आरजेडी नेता सदन में नारेबाज़ी और हंगामा करना चाह रहे थे लेकिन तेजस्वी ने समझदारी दिखाते हुए उन्हें रोक दिया और सदन की मर्यादा बनाये रखी. कहा तो यह भी जा रहा है  कि बीजेपी के बड़े नेता ने तेजस्वी के भाषण की तारीफ करते हुए कहा कि तेजस्वी से ऐसे भाषण कीई उम्मीद नही थी.

इसके बाद नीतीश कुमार सदन में बोलने के लिए खड़े हुए और उन्होंने कहा कि मै तेजस्वी के सभी बातों का जवाब दूंगा. समय आने पर एक एक सवाल का जवाब दूंगा. इसी दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार की जनता हमें समर्थन किसी एक परिवार की सेवा के लिए नही दिया है हमें पूरे बिहार की सेवा करनी है. बिहार को नई उचाईयों पर ले जाना है. मैंने बिहार की जनता की सेवा करने के लिए जो सही रास्ता था उसे चुना. आपकी जानकारी  के बता दें कि नीतीश कुमार बिहार के छठें मुख्यमंत्री के रूप में शुक्रवार को शपथ ले लिया.