Amazing Intresting

दिवालिया हो रहा है देश का ये बड़ा बैंक, जल्दी निकालें इस बैंक से अपना पैसा

दिवालिया हो रहा है देश का ये बड़ा बैंक, जल्दी निकालें इस बैंक से अपना पैसा November 20, 2017Leave a comment

दिवालिया हो रहा है देश का ये बड़ा बैंक, जल्दी निकालें इस बैंक से अपना पैसा : भारत में बैंकों की बहुत बुरी हालत है, बढता हुआ एन पी ए (नान परफॉरमेंन्‍स एसेट्स) आपकी बचत पूजी को समाप्‍त कर सकता है और आपको कंगाल सकता है। जी हॉ हम बात कर रहे है, मध्‍य प्रदेश के राज्य सरकारी बैंकों की जो इस समय दिलालियापन की कगार पर खड़े हुए है।

दरअसल इन बैंकों की तबाही का कारण लोन की वसूली न कर पाना है, किसानों को इन बैंकों ने जमकर लोन बॉंटा मगर ये बैंक वसूली करने में पूरी तरह नाकाम साबित हुए। इन बैंकों को धारा 11 के तहत बन्‍द किया जा सकता है। ऐसे बैंकों का एनपीए हज़ारों करोड़ में पहुँच गया है। बैकों ने जिला प्रशासन मदद की गुहार लगायी है, ताकि लोन की वसूली हो सके।

दिवालिया हो रहा है देश का ये बड़ा बैंक, जल्दी निकालें इस बैंक से अपना पैसा
दिवालिया हो रहा है देश का ये बड़ा बैंक, जल्दी निकालें इस बैंक से अपना पैसा

क्या है इन बैंकों के बर्बादी का कारण

रिर्जव बैंक ऑफ इडिंया ने चेतावनी दी है कि जो जिला सहकारी बैंक 31 मार्च तक अपनी सीआरआर 9 फीसदी के ऊपर नहीं कर पांएगे, उन लाइसेन्‍स आरबीआई रद कर सकती है। इस चेतावनी के बाद सभी जिला सरकारी बैंक जाग चुके है, और इस लक्ष्‍य को पाने के लिए प्रयासरत्‍ है।

दिवालिया हो रहा है देश का ये बड़ा बैंक, जल्दी निकालें इस बैंक से अपना पैसा
दिवालिया हो रहा है देश का ये बड़ा बैंक, जल्दी निकालें इस बैंक से अपना पैसा

ये होता है सीआरआर

सीआरआर (कैश रिर्जव रेशियों) बैंक की पूंजी को मापने का एक तरीका है। यह वास्‍तव में बैंक वित्तिय स्थिति‍ को बताता है, और इसकी दर को समय-R पर आरबीआई बदलता रहता है। सीआरआर आपके द्वारा जमा कराये गये धन वह प्रतिशत होता है, जिसे आरबीआई अपने पास रखता है।

MP मे एनपीए है सीमा से बहुत अधिक

मध्‍य प्रदेश में किसानों की बुरी हालत है, इसका कारण वहॉं के बैंक बॉंटे गये कर्ज की वसूली करने में नाकाम रहें है, अब ये लोन बैंकों के लिए नासूर बन चुका है। यह राशि बढ़ कर अब 15 से 20 हज़ार करोड़ पहुँच चुकी है।

सबसे बुरी है इस बैंक की दशा

रिर्जव बैंक ने सीआरआर दर को 9 प्रतिशत कर दिया है लेकिन ‘सतना जिला सहकारी बैंक” का सीआरआर मात्र 1.5 प्रतिशत है, और इसे आरबीआई द्वारा तय 9 प्रतिशत पर ले जाना लगभग असंभव है। इसलिए इस बैंक का लाइसेंस का निरस्‍त हो जाना तय है। APEX Bank की वेबसाइट पर मौजूद डाटा से आपको बढ़ते हुए एनपीए का सम्‍पूर्ण विशलेषण मिल जायेगा जो वर्तमान में करीब 365 करोड़ के ऑंकड़े को छु रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *