Facts Featured India

लड़की ने बलात्कारी से कहा – ‘उस रात रेप करते वक्त तुम क्या सोच रहे थे?’ जिस पर बलात्कारी ने दिया ऐसा जवाब की लड़की रह गई सन्न

लड़की ने बलात्कारी से कहा – ‘उस रात रेप करते वक्त तुम क्या सोच रहे थे?’ जिस पर बलात्कारी ने दिया ऐसा जवाब की लड़की रह गई सन्न January 16, 2018Leave a comment

लड़की ने बलात्कारी से कहा – ‘उस रात रेप करते वक्त तुम क्या सोच रहे थे?’ जिस पर बलात्कारी ने दिया ऐसा जवाब की लड़की रह गई सन्न :- इस दुनिया मे ऐसे कई प्रकार के शोषण सुनने को मिले है जो कि महिलाओं के साथ होते रहते थे आज कुछ हद तक इसपे लगाम लगी है और अब महिलाओं को एक नई सोच के साथ जीने का अवसर दिया जा रहा है इसके चलते अब महिलाओं को बराबर का मौका दिया जा रहा है

हालांकि ऐसे घृणित विचारधारा के लोगो ने निर्भया जैसे जघन्य कांड को अंजाम दिया और हैरानी तो इस बात हो रही है कि उनको इस कृत्‍य की को ग्‍लानी नही है,ऐसा केवल निर्भया के हत्यारे नही, बल्कि कई ऐसे रेपिस्ट हैं जिनको अपने किये दुष्‍कमों का जरा भी पश्चाताप नही हैं। इस संबंध में एक लड़की ने कुछ ऐसा खुलासा किया कि लोग दंग रह गये। दिल्ली की तिहाड़ जेल में बलात्कार के आरोप में सजा काट रहे करीब 100 आरोपियों से मिलकर 26 वर्षीय मधुमिता पांडे नाम की एक लड़की ने उनके इंटरव्यू लिए।

लड़की ने बलात्कारी से कहा – ‘उस रात रेप करते वक्त तुम क्या सोच रहे थे?’ जिस पर बलात्कारी ने दिया ऐसा जवाब की लड़की रह गई सन्न
लड़की ने बलात्कारी से कहा – ‘उस रात रेप करते वक्त तुम क्या सोच रहे थे?’ जिस पर बलात्कारी ने दिया ऐसा जवाब की लड़की रह गई सन्न

आपकी जानकारी के लिए बता दे ,जब देश दुनिया को हिला देने वाला निर्भया काण्ड हुआ था उस समय मधुमिता यूके में थी और वहां की एक यूनिवर्सिटी से क्रिमिनोलोजी में अध्यनरत थी, बहुत से लोगो की तरह निर्भया काण्ड ने मधुमिता को झकझोर कर रख दिया था और उन्होंने उसी समय बलात्कार के आरोपीयो की मानसिकता उनके सोचने के तरीके पर शोध करने का निर्णय ले लिया।

मधुमिता पांडेय
इंटर्व्यू लेने वाली मधुमिता पांडेय

मधुमिता के मन में एक बात बार बार उठ रही थी कि जब किसी महिला के साथ ये कैदी दरिदंगी की हद पार करते है उस समय इनके दिमाग में क्‍या चल रहा होता है, किसी महिला या लडकी के साथ ऐसी दरिंदगी करने वाले इंसान और एक साधारन आम इन्सान में क्या फर्क होता हैं। इनकी सोच कैसी होती हैं। कैसे ये इन्सान हैवान बनकर किसी महिला का जीवन नरक बना देते हैं।

अपने मन में उठते इन्‍ही सवालों के जवाब खोजने मधुमिता ने तकरीबन एक सप्‍ताह तिहाड़ जेल में गुजारा, मधुमिता ने जेल से आने के पश्‍चात कहा कि इन अपराधियों से मिलने से पहले मेरे मन में इनके लिये धारणा बन गई थी कि ये यकीनन आसुरी प्रवृत्ति के होगे। पर जब इनसे मिली इनका साक्षात्‍कार लिया, तो इस बात का एहसास  नही हुआ कि ये ऐसे घृणित काण्‍ड को अंजाम दे सकते है।

इनका स्वभाव हम और आप जैसा ही हैं, पर इनमे शिक्षा का अभाव अवश्य है। मधुमिता ने जो आगे बताया वह बड़ा हैरान करने वाला था। मधुमिता ने कहा की कैदियो को इसका जरा भी पश्चाताप नही की ये किसी ऐसी घटना को अजाम दे चुके हैं, मधुमिता ने कहा की हमारा देश आज भी रुढ़िवादी देशो की श्रेणी में आता हैं, देश में ऐसे कई स्कुल हैं जहां बच्चो को यौन शिक्षा नही दी जाती हैं।

अपने बच्चो से भारतीय माँ बाप कभी यौन मामलो पर बात करना पसंद नही करते हैं, मधुमिता कहती हैं की यौन शिक्षा के अभाव में ही महिला या लडकियो के लिए ऐसी कुंठित मानसिकता जन्म लेती हैं। मधुमिता द्वारा कैदियो पर इस शोध से एक बात तो सपष्ट हो गयी की महिलाओ और लडकियो के खिलाफ यौन हिंसाओ को रोकने के लिए जहाँ कानूनी वयवस्था को मजबूत करना होगा वही सामजिक मानसिकता में बदलाव लाना आवश्यक है।

मित्रो अधिक रोचक बाते व लेटेस्‍ट न्‍यूज के लिये आप हमारे पेज से जुड़े और अपने दोस्तो को भी इस पेज से जुड़ने के लिये भी प्रेरित करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *