Facts Intresting News Social Media

इस्तीफा देने से पहले लालू यादव को आया नीतीश कुमार का फोन, ‘हेल्लो’ कहते ही…

नीतीश कुमार बिहार के फिर से मुख्यमंत्री बन चुके हैं और इस नयी सरकार में उनके साथ लालू प्रसाद नही बल्कि बीजेपी है.

इस्तीफा देने से पहले लालू यादव को आया नीतीश कुमार का फोन, ‘हेल्लो’ कहते ही… July 30, 2017

सुशील मोदी को उपमुख्यमंत्री बनाया गया लेकिन नीतीश ने एक झटके में जिस तरीके से इस्तीफा देकर सबको चौका दिया उसको देखते हुए उनपर तेजस्वी यादव काफी गंभीर आरोप लगा रहे हैं. तेजस्वी का कहना है कि नीतीश धोखेबाज है और उन्होंने हमारी पार्टी के साथ धोखा किया है. फ़िलहाल कमान लालू ने भी संभाल लिया है और नीतीश पर वार किये जा रहे हैं. लालू का कहना है कि नीतीश ने उन्हें इस्तीफे के बारे में नही बताया था लेकिन अब जो खबरें आ रही हैं उससे साफ पता चल रहा है कि नीतीश ने इस्तीफा देने से पहले लालू को फोन किया था और उनसे कुछ ऐसा कहा था कि लालू प्रसाद यादव को कहना पड़ गया था कि ‘नही एक बार और सोच लो’

Source

राहुल को पता थी लड़ाई की बात

दरअसल नीतीश और लालू की पार्टी के बीच कई दिनों से रार चल रही थी, कुछ सूत्रों का कहना है कि ये लड़ाई करीब एक साल से चल रही थी और वहीं राहुल गाँधी का कहना है कि नीतीश की ये मंशा चार-पांच महीने पहले ही समझ में आ गयी थी. सोचने वाली बात तो ये है कि आखिर महागठबंधन का हिस्सा रहे कांग्रेस के युवराज को जब ये बात पहले से पता चल गयी थी तो उन्होंने किसी से कहा क्यों नही.

Source

नीतीश कुमार ने फोन पर कहा कुछ ऐसा कि लालू..

फ़िलहाल अगर नीतीश के इस्तीफे की बात करें तो सूत्र बताते हैं कि नीतीश ने इस्तीफा देने से पहली लालू को फोन किया था और अपने इस्तीफे की जानकारी बताई थी. नीतीश कुमार इस्तीफा देने जा रहे हैं, ये सुनकर लालू के पैरों के तले जमीन खिसक गयी और उन्होंने नीतीश को से ‘कहा आप अपने फैसले पर एक बार फिर से विचार कर लीजिये, शायद ये ठीक नही है.’

Source

आपको बता दें कि बिहार में हुए 2015 विधानसभा चुनाव में लालू ने नीतीश के सहारे चुनाव लड़ने की ठानी, क्योंकि लालू की जिस तरीके से छवि बन चुकी थी वो उन्हें चुनाव में फायदा नही दिलवा सकती थी.

Source

लालू हैं कि मानते नही

इसलिए बीजेपी के खिलाफ लालू ने ‘सुशासन बाबू’ से हाथ मिला लिया और नीतीश की पार्टी से भी अच्छी सीट मिली उन्हें, लेकिन सत्ता में आते ही उनके सुर बदल गये और पुराने तरीके से उनके काम काज दिखने लगे. भ्रष्टाचार के मामलों में सबसे आगे रहने वाले लालू इस बार खुद तो फंसे ही थे लेकिन उनके साथ में उनके परिवार का भी नाम खूब चर्चा में आ चुका था.

Source

नीतीश कुमार ने लालू को फोन करके क्या कहा था

सूत्र बताते हैं कि जब नीतीश कुमार ने इस्तीफे का मन बन लिया था तो अपने सहयोगी दल राजद के नेता लालू प्रसाद यादव को फोन किया और उनसे कहा कि “लालू जी, अब मैं जो करने जा रहा हूं उसके लिए मुझे माफ कर दीजिएगा, क्योंकि मैंने 20 माह तक सरकार चलाने की कोशिश की लेकिन जिस तरीके से हालात पैदा हुए उसको देखते हुए अब मैं इसे अब और नहीं चला सकता और इसलिए मैं अपना पद छोड़ने जा रहा हूं.”

Source

इतना सुनते ही तो लालू के होश ही उड़ गये, उन्हें समझ में नही आ रहा था कि आखिर जिस नीतीश कुमार के सहारे उन्हें फिर से सत्ता का सुख मिला था वो नीतीश कुमार उन्हें ही छोड़ के चल दिए तो उनका आगे क्या होगा. आपको बता दें कि 28 जुलाई को NDA के नेतृत्व में बिहार विधानसभा में बहुमत हासिल कर लिया. इस दौरान सरकार के पक्ष में 131 वोट और विरोध में 108 वोट पड़े. सत्ता से बाहर हो जाने पर नाराज राजद ने सदन से वॉकआउट किया.