News

होली खेलने आया मुस्लिम बच्चा बोला-“बाबा जय श्री राम”, योगी का जवाब सुन रह जायेंगे दंग..

होली खेलने आया मुस्लिम बच्चा बोला - "बाबा जय श्री राम", योगी ने दिया ये हैरान कर देने वाला जवाब.. भारत एक हिन्दू बहुल राष्ट्र है मगर यहाँ की राजनीती आजादी के बाद से ही मुस्लिम तुष्टीकरण की राजनीति बन गई है.

होली खेलने आया मुस्लिम बच्चा बोला-“बाबा जय श्री राम”, योगी का जवाब सुन रह जायेंगे दंग.. March 4, 2018Leave a comment

होली खेलने आया मुस्लिम बच्चा बोला – “बाबा जय श्री राम”, योगी का जवाब सुन रह जायेंगे दंग… भारत एक हिन्दू बहुल राष्ट्र है मगर यहाँ की राजनीती आजादी के बाद से ही मुस्लिम तुष्टीकरण की राजनीति बन गई है. इसी के चले हर नेता-पार्टी मुस्लिम त्यौहारों पर खुलकर बधाई और मुबारकबाद देते नजर आते हैं. मगर पहली बार राजनीति ने करवट ले ली है. भगवा कपड़ों में योगी आदित्यनाथ ने हिन्दुओं की आस्थाओं को तवज्जो दी है.

जी हाँ, मुख्यमंत्री बनने के बाद योगी आदित्यनाथ की यह पहली होली थी जिसे उन्होंने अपने क्षेत्र गोरखुपर में धूमधाम से मनाया. बता दें कि इस दौरान गोरखपुर में न सिर्फ हिन्दू थे, बल्कि सभी समुदाय के लोग मौजूद थे, जिन्होंने मुख्यमंत्री के साथ होली मिलन किया। लकिन जब इसी भीड़ में शामिल एक मुस्लिम बच्चे ने योगी के पास जाकर “बाबा जय श्री राम” कहा, तब सीएम योगी ने भी उस बच्चे से ऐसा कुछ कहा, जिसे जानकर हर कोई दंग रह गया.

उल्लेखनीय है की होली का त्यौहार योगी की मेहनत की परीक्षा थी और योगी के रूप में बीजेपी ने नाथ बहुल राज्य त्रिपुरा में अपना ट्रंप कार्ड खेला और अगर राजनीतिक सूत्रों की माने तो चुनाव के जिन शुरूआती दिनों में त्रिपुरा बीजेपी के हाथ से फिसल रहा था, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के त्रिपुरा जाते ही पूरा खेल बदल गया। इस दौरान योगी यहां ट्रम्प कार्ड साबित हुए।

बता दें की योगी त्रिपुरा में स्टार प्रचारक थे क्यूंकि त्रिपुरा में नाथ संप्रदाय के मंदिर और अनुयायियों की संख्या काफी अधिक है। इसलिए त्रिपुरा की जीत से योगी बेहद खुश थे और जब मुस्लिम बच्चे ने उनसे जय श्री राम कहा तो उन्होंने भी बेहद भावुक जवाब दिया।

बता दें की योगी ने मुस्लिम बच्चे से पढ़ाई और परिवार का कुशल मंगल पूछा और उसके भविष्य के लिए आर्शीवाद भी दिया। बता दें की अगर आंकड़ों पर नजर डाली जाए तो त्रिपुरा में पिछड़े वर्ग की आबादी करीब 30 प्रतिशत है। साथ ही भाजपा की रणनीति अन्य हिंदू समुदायों को अपनी तरफ खींचने की थी। इसमें बीजेपी कामयाब भी हुई।

उल्लेखनीय है कि त्रिपुरा में पिछड़ी जातियों के लिए कोटा नहीं है, इस कारण ही अनुयायी चाहते थे कि उन्हें पिछड़ी जाति का कोटा दिया जाए। बता दें की नाथ संप्रदाय के इसी मुद्दे को लेकर बीजेपी ने त्रिपुरा में योगी को उतारने का बड़ा दांव खेला और सफल भी हुए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *